Rubella virus in Hindi, what is rubella virus, Rubella vaccine in Hindi कारण, लक्षण

Rubella virus in Hindi :- रूबेला एक तरह का वायरस है जो संक्रमण या छूत के कारण फैलता हैं, यह आपके परिवार में किसी को भी हो सकता है, जो आगे चलकर एक प्रकार का खतरा भी बन सकता है आज हम इस पोस्ट “Rubella virus in Hindi” में जानेंगे की ये वायरस कैसे फैलता है और आप इससे कैसे बच सकते हैं।

Rubella virus in Hindi

 

खसरे के लक्षण कई बार इतने सामान्‍य होते हैं कि यह बीमारी पकड़ में ही नहीं आती। खासतौर पर बच्‍चों में इस बीमारी के लक्षणों की पहचान कर पाना कई बार बहुत ही मुश्किल हो जाता है। इस बीमारी के लक्षण फौरन पकड़ में भी नहीं आते। वायरस के हमले के करीब दो से तीन हफ्ते के बाद ही इस बीमारी की पहचान सम्‍भव हो पाती है। ये लक्षण दो से तीन दिन तक रहते हैं-

Read This- Andheri Bridge collapse in Mumbai

Rubella Virus (रुबेला वाइरस) औषधीय नमक खसरा के लिए टीकाकरण और अन्य स्थितियों के उपचार के लिए निर्देशित किया जाता है। यह औषधीय नमक इस दवा गाइड में सूचीबद्ध नहीं किए गए उद्देश्यों के लिए भी उपयोग किया जा सकता है।

What is Rubella virus in Hindi-

रूबेला को जर्मन खसरा व तीन दिन के खसरे के नाम से भी जाना जाता है, यह एक विशिस्ट प्रकार का संक्रमण होता हैं जो शरीर पर लाल धब्बो से पहचान में आता है। अमेरिका में इस वायरस का सफाया कर दिया गया है लेकिन फिर भी वहा के माता- पिता को इस बात की चेतावनी दी जाती है की उनके बच्चो को इस वायरस से बचाव के लिए टीका जरूर लगाया जाना चाहिए।

Rubella Virus in Hindi (रुबेला वाइरस) – दुष्प्रभाव / साइड-इफेक्ट्स

निम्नलिखित उन संभावित दुष्प्रभावों की सूची है जो उन दवाओ से हो सकते हैं जिनमें Rubella Virus (रुबेला वाइरस) शामिल होता है। यह व्यापक सूची नहीं है। ये दुष्प्रभाव संभव हैं, लेकिन हमेशा नहीं होते हैं। कुछ दुष्प्रभाव दुर्लभ, लेकिन गंभीर हो सकते हैं। यदि आपको निम्नलिखित में से किसी भी दुष्प्रभाव का पता चलता है, और यदि ये समाप्त नहीं होते हैं तो अपने चिकित्सक से परामर्श लें।
  • सुनने या दृष्टि के साथ समस्या
  • तंद्रा
  • बेहोशी
  • नील पड़ना या रक्ततस्राव
  • अनपेक्षित कमजोरी
  • दौरा
  • उच्च बुखार
यदि आपको किसी ऐसे दुष्प्रभाव का पता चलता है जो ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है तो चिकित्सीय सलाह के लिए अपने चिकित्सक से संपर्क करें। आप अपने स्थानीय खाद्य और दवा प्रबंधन अधिकारी को भी दुष्प्रभावों की सूचना दे सकते हैं।

Rubella Virus कारण

रूबेला वायरस द्वारा उत्पन्न होता है। यह संक्रमित व्यक्ति के खाँसने या छींकने पर हवा द्वारा लाए गए कणों से फैलता है। यह संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क या उसके द्वारा उपयोग में लाई गई वस्तुओं के प्रयोग से भी फैलता है।

गर्भावस्था के दौरान क्या करे

अगर आप गर्भवती हैं, तो आपको नियमित रूप से अपनी जांच करवानी चाहिए। इससे आपको न सिर्फ जर्मन खसरे बल्कि अन्‍य कई बीमारियों से बचने में मदद मिलेगी। लेकिन आपने कोई दवाई नहीं ली है और आपको खसरे की जरा भी आशंका होती है, तो बिना देर किये फौरन अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें। डॉक्‍टर जांच के बाद इस बात की पुष्टि कर सकता है कि आपको यह रोग है अथवा नहीं। और आपको किस तरह के इलाज की जरूरत है।

Read This- What is RAM in Hindi

पहले 12 हफ़्तों (पहेली तिमाही) में रूबेला विषाणु के साथ संक्रमण सबसे गंभीर छति का कारण बन सकता है। शुरूआती 12 हफ़्तों में ही बच्चे के सभी अंगो की संरचना की जा रही होती है और इसलिए ये संक्रमण बच्चे में बर्थ डिफेक्ट कर सकता है।

रूबेला का Treatment / इलाज क्या हैं?

रूबेला के इलाज के लिए कोई विशिस्ट दवा नहीं है, इसको तेज़ी से दूर करने के लिए कोई दवा उपलब्ध नहीं है, अगर आपको किसी के अंदर ये लक्छड़ नजर आते है तो उसे तुरंत अपने किसी नजदीकी डॉक्टर को दिखाए।

भारत में है बड़ी समस्‍या

खसरा एक बेहद संवेदनशील और संक्रमण वाली बीमारी है। भारत मे बड़ी संख्‍या में बच्‍चे कुपोषण की समस्‍या से जूझ रहे हैं। ऐसे में उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता काफी कम है। इसलिए रोगों से बचाने और सुरक्षित करने के लिए टीकाकरण की पहुंच ज्यादा से ज्यादा बच्चों तक पहुंचाने की जरूरत है। उन्हें वह सब जरूरी टीके मिलें, जिनसे वह ऐसी बीमारियों के खिलाफ मजबूती से लड़ाई कर पाते हैं।

Read This- BitCoin kya hai iska use kaise kare

Conclusion

ये कोई गंभीर बीमारी नहीं है ये बस एक तरह का वायरस है जिसका इलाज संभव है, अगर आपके अंदर इस प्रकार के लक्छड़ है तो तुरंत अपने किसी नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करे ताकि आपका डॉक्टर आपको सही उपचार बता सके।
ऊपर लिखी गयी सारी जानकारी तथ्य पर आधारित है इसमें ऐसा कुछ भी नहीं है जिससे आपको और आपके परिवार को कोई नुकसान हो सके।

अगर आपको ये जानकारी “Rubella virus in Hindi” पसंद आयी तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे और उन्हें भी जागरूक करे ताकि वो भी इस वायरस से बच सके।

Sharing is Caring:

5 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.