Flowchart क्या हैं? What is Flowchart in Hindi

What is Flowchart- Flowchart किसी Algorithm को समझने में हमारी मदद करता हैं। Flowchart द्वारा किसी Algorithm को समझना आसान हो जाता हैं। किसी भी प्रोग्राम के लिए अल्गोरिथम लिखने के बाद अगला काम Flowchart बनाना ही होता हैं, Flowchart किसी भी प्रोग्राम के कोड को समझने में एक अहम भूमिका निभाता हैं।

किसी Algorithm को कई चित्रों के उपयोग से दरसाने पर जो चित्र मिलता है उसे ही Flowchart (फ्लो चार्ट) कहते है | Flowchart में हर छोटे चित्र एक दुसरे से जुरकर information और processing के बहाब को दर्शाता है | Flowchart हमे Algorithm को और बेहतर तरीके से समझने में मदद करता है |

एल्‍गोरिथम का चित्रीय रूपांतरण (graphical conversion)फ्लोचार्ट कहलाता है (इसमें अलग-अलग प्रकार के Instructions के लिए अलग-अलग symbols का प्रयोग किया जाता है तथा उसके अंदर संक्षिप्त में Instructions लिखे रहते हैं। Arrow के Symbol से Instructions के execution का डायरेक्शन बताया जाता है।

flowchart kya hai

फ्लोचार्ट (Flowchart) बिलकुल किसी मकान के फ्लोर प्‍लान (Floor Plan) की तरह है, यह एल्गोरिदम (Algorithm) का चित्रात्मक (Graphical) रूप होता है, जिसमें Instructions के लिए Symbols का इस्‍तेमाल किया जाता है और ये Symbols बताते हैंं कि एल्गोरिदम (Algorithm) किस डायरेक्शन में जा रहा है फ्लोचार्ट (Flowchart) सेे प्रोग्राम के   एल्गोरिदम (Algorithm) को समझना बहुत आसान हो जाता है और साथ ही इससे प्रोग्राम लिखना आसान होता है तथा गलतिया सुधारना भी सरल होता है ।

Flowchart function

इसके लिए कई सारे डायग्राम यूज़ किये जाते है,जैसे की square,rectangle,diamond,arrow,इत्यादि जैसे-सिंबल का यूज़ किया जाता है। इसको इसलिए बनाया जाता है ताकि अल्गोरिथम को और अच्छे से समझा जा सके।

What is Flowchart

Flowchart प्रोग्रामिंग इंडस्ट्री द्वारा बनाया गया एक चार्ट है यह process या problem को solve करने में इस्तेमाल किये गए steps को दर्शाता है, Flowchart बनाने के लिए हमें कुछ चिन्हो का इस्तेमाल करना पड़ता है जैसे- Square, Rectangle, Diamond, Oval, Arrow.

फ्लोचार्ट में इन्ही सिंबल का यूज़ किया जाता है और सिंबल एक दूसरे से कनेक्ट होकर ये दर्शाते है,कि प्रोग्राम कैसे-कैसे फ्लो कर रहा है या फिर आसान भाषा में कहे तो कैसे काम कर रहा है। ये सब बताता है तो इसलिए आपको फ्लोचार्ट में बेसिक सिंबल के बारे में पता होना चाहिए,की इन सिम्बलो का क्या-क्या यूज़ होता है।

फ्लोचार्ट (Flowchart) में इस्‍तेमाल होने वाले Symbols

Flowchart Symbols

  1. Terminal (Start/Stop) Symbol-  इस सिंबल का यूज़ फ्लोचार्ट में किसी भी फ्लोचार्ट को शुरू और बंद करने के लिए यूज़ किया जाता है, उदाहरण के लिए अगर अल्गोरिथम लिखते वक्त शुरुआत में आप Start लिखते है। तो यही स्टार्ट की जगह पे फ्लोचार्ट में इस सिंबल को बनाना होगा,इसके साथ ही फ्लोचार्ट बंद करने के लिए आपको इसी सिंबल का प्रयोग करना होगा।
  2. Input/Output Symbol- फ्लोचार्ट में अगला सिंबल आता है, जिसका नाम है,इनपुट और आउटपुट इन दोनों दोनों ऑप्शन का यूज़ इनपुट यानी की कोई वैल्यू एक्सेप्ट करने के लिए यूज़ किया जाता है। अगर आप को रिजल्ट डिस्प्ले करना है तो भी इसी सिंबल का यूज़ करना पड़ेगा। आउटपुट के लिए उदाहरण- अगर आप दो नंबर को जोड़ते है तो उसके लिए आपको दो नंबर लेना होगा,तो इसके लिए हम यही सिंबल यूज़ करेंगे। और दोनों का sum show करना है तो यही सिंबल प्रयोग करेंगे।
  3. Process- अगर आप लोगो को किसी भी तरह का प्रोसेस,कलकुलेशन या फिर इंस्ट्रक्शन देना है,तो आप फ्लोचार्ट में आप इस सिंबल का यूज़ करेंगे। उदाहरण के लिए मान लीजिये अगर आप को दो नंबर को जोड़ना है, तो जो जोड़ने का प्रोसेस होगा वह इसी बॉक्स के अंदर होगा। इसी बॉक्स के अंदर आप सारे कलकुलेशन फ्लोचार्ट में करते है।
  4. Decision or Test- इस सिंबल का बेसिकली तब किया जाता है,जब आप को किसी तरह का डिसिशन लेना होता है। या फिर कोई क्वेश्चन हो तो आप इस सिंबल का यूज़ करते है,उदाहरण के लिए अगर आप को फ्लोचार्ट में कोई कंडीशन लगाना है, तो आप इस सिंबल का यूज़ करते है। जैसे की मान लीजिये एक कंडीशन सही है और दूसरी कंडीशन गलत है तो आप एक साइड सही कंडीशन को लेंगे,दूसरी साइड आप गलत कंडीशन को लेंगे। और अगर कोई ब्रांचिंग बनाना है तो आप इस सिंबल का प्रयोग कर सकते है।
  5. Flow Line- किसी भी फ्लोचार्ट में आप को डायरेक्शन शो करना है,की डाटा कहाँ से जा रहा है यानि कहाँ फ्लो करना है,तो ऐसे कंडीशन पर आपको एरो सिंबल का यूज़ करना पड़ेगा। उदाहरण के लिए अगर आप की कोई कंडीशन गलत है,तो आपको एरो से शो करना होगा की किस साइड की कंडीशन सही है,और किस साइड की कंडीशन गलत है।
  6. Connector- फ्लोचार्ट के इस सिंबल का प्रयोग फ्लोचार्ट के एक पार्ट को दूसरे पार्ट से जोड़ने के लिए यूज़ किया जाता है। उदाहरण के लिए आप के पास दो फ्लोचार्ट है और दोनों एक दूसरे से कनेक्टेड है,अगर आप को यह दिखाना है तो आप इस सिंबल का प्रयोग करेंगे।

Flowchart बनाने के नियम-

फ्लोचार्ट बनाने के भी कुछ नियम होते है जिनकी मदद से हम आसानी से फ्लोचार्ट बना सकते है-

  1. Flowchart बनाते समय जितने भी चिन्हो का प्रयोग होता है सभी को Arrow द्वारा जोड़ा जाता हैं, जिससे हमें पता चलता है की फ्लोचार्ट किस दिशा में जा रहा है।
  2. सभी फ्लोचार्ट एक setting एवं ending point होता हैं।
  3. जब हम फ्लोचार्ट में कुछ कंडीशन का प्रयोग करते है, तो उसका 2 exit point होता हैं। जिसका मुँह ऊपर की ओर निचे की ओर या फिर साइड की ओर होता है जिसका दो आउटपुट होता है एक सही और एक गलत।
  4. सबरूटीन के अपने खुद के Flowchart होते है।
  5. हर एक Flowchart में एन्ड सिंबल होना चाहिए।

Flowchart के फायदे और नुकसान-

फ्लोचार्ट के भी दो पहलू है जिसमे उसके फायदे और नुकसान की जानकारी मिलती है-

फायदे (Advantage)

  • फ्लोचार्ट communication के लिए बहुत आसान हो जाता हैं।
  • फ्लोचार्ट के जरिये हम Programming को आसानी से समझ सकते है क्युकी इसमें चिन्हो का उपयोग होता हैं।
  • फ्लोचार्ट के जरिये हम algorithm में हुए error को आसानी से जानकारी उसे fix कर सकते हैं।
  • Data कहा flow कर रहा हैं ये जान सकते हैं।
  • किसके जरिये किसी भी प्रॉब्लम को समझने में आसानी होती हैं।
  • ये किसी भी new system को design करने के लिए best tool हैं।
  • इसके जरिये हम किसी भी प्रोग्राम को अच्छे से समझ सकते हैं।

नुकसान (Disadvantage)

  • Flowchart में एक से ज्यादा पेज को तो उसे समझने में मुश्किल होती हैं।
  • ये software developing के लिए बहुत slow process है।
  • फ्लोचार्ट बनाने के लिए हमें चिन्हो का इस्तेमाल करना पड़ता है जिसमे हमारा बहुत time waste हो जाता हैं।
  • यदि हमें फ्लोचार्ट में कुछ बदलाव करना होता है तो उसके लिए हमें फिर से दोबारा पूरा फ्लोचार्ट बनाना पड़ता है, हम फ्लोचार्ट के बीच में कुछ नहीं बदल सकते हैं।
  • Flowchart को प्रोडूस और मैनेज करना थोड़ा मुश्किल होता है।

Conclusion

ये जानकारी Programming field वालो के लिए बहुत जरुरी है, ये पोस्ट उन के लिए भी मददगार साबित हो सकता है जो अभी study कर रहे है, उम्मीद करता हु की आपको समझ आ ही गया होगा की Flowchart क्या है और ये किस काम आता हैं।

Flowchart बनाने से पहले आप अल्गोरिथम के बारे में थोड़ा पढ़ ले और जब भी Flowchart बनाये तो उसे सबसे पहले एक रफ़ कागज में बनाये ताकि अगर कुछ गलती भी हो तो आप उसे सुधार सके, फ्लोचार्ट कोई आसान काम नहीं है लेकिन फिर भी अगर आप इसे सीखेंगे तो बहुत जल्दी आप इसमें कुशल हो जायेंगे।

उम्मीद करता हु आपको Flowchart के बारे में ये जानकारी पसंद आयी होगी, अगर आपको ये जानकारी Helpful लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे ताकि उनको भी फ्लोचार्ट के बारे में पता चल सके, आप हमको Social Media पर भी Follow कर सकते हैं।

इस पोस्ट से related अगर आपके कुछ सवाल है तो आप हमसे कमेंट करके पूछ सकते है हमें आपकी मदद करके बहुत ख़ुशी 🙂 होगी।

Sharing is Caring:

4 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *